Thursday, October 20, 2011

पत्नी और पति की उम्र मे अन्तर

पुरुष के लिए शुक्र और स्त्री के लिए गुरु जीवन साथी के रूप में माने जाते है.दक्षिण भारत में स्त्री के लिए मंगल को भी जीवन साथी के रूप में देखा जाता है.शनि की नजर जब शुक्र पर होती है तो स्त्री उम्र में बड़ी होती है और शनि की नजर जब गुरु या मंगल पर होती है तो स्त्री का पति उम्र में बड़ा होता है.बाकी के ग्रह अपने अपने अनुसार फल दाई होते है.अगर शुक्र शनि दोनों लगन में ही है तो पुरुष की पत्नी कुछ महीने ही बड़ी होगी,अगर दूसरे भाव में है तो एक  साल का फर्क होगा तीसरे भाव में दो साल का चौथे भाव में तीन साल का पांचवे भाव में चार साल का इसी तरह से छः में पांच सातवे भाव में छः साल का आठवे भाव में सात साल एक माह नवे भाव में सात साल दो माह का दसवे भाव में पूरे दस साल का अक्सर दूसरी जगह शादी और ग्यारहवे भाव में दस साल एक माह और बारहवे भाव में दस साल दो माह का अंतर माना जाता है.

पुरुष के लिए स्त्री के बड़ी उम्र की मिलाती है तो एक साथ कई फायदे देखे जाते है,एक तो शुक्र और शनि की युति मिलाती है जिसके कारण से वैवाहिक जीवन बहुत ही आराम से निकल जाता है किसी प्रकार की लड़ाई झगड़ा नहीं होता है दूसरा पुरुष का दूसरी स्त्रियों की तरफ जाने वाला ध्यान ख़त्म हो जाता है तीसरा कारण जो सबसे अच्छा माना जाता है की बड़ी उम्र की स्त्री कमाने वाले धन को सुरक्षित रखती है और भौतिक साधनों का पूरा पूरा उपयोग होना माना जाता है लेकिन व्यक्ति के अन्दर अधिक उम्र की स्त्री के साथ सहसवास करते करते शारीरिक बल में कमी आती है कभी कभी पुरुष अगर दस साल से अधिक का अंतर होता है तो वह शरीर सुख से दूर भागने लगता है तथा स्त्री जातको से उसे चिढ हो जाती है.इस प्रकार से उसके सामने केवल एक ही चिंता होती है की कितना धन और कैसे कमाया जाए,उम्र की बयालीस साल की उम्र तक वह अधिक चिंता करता है चाहे कितनी ही संपत्ति उसके पास आजाये लेकिन उसे धन की फिर भी जरूरत पड़ती रहती है.

स्त्री की कुंडली में अगर शनि गुरु को देख रहा होता है तो उसकी शादी बड़ी उम्र के पुरुष से होती है और शादी के सातवी साल से ही घर में किसी न किसी प्रकार का अनैतिकता का कारण बन जाता है अक्सर इसी अनैतिक कारणों की बजह से स्त्री अपनी कामुकता की शान्ति के लिए अलग अलग प्रकार के अनैतिक रास्ते अपना लेती है.इसी कारण से कामुकता के रोग भी पनपने लगते है और अंदरूनी बीमारिया भी मानी जाती है,अक्सर कम उम्र की स्त्री के पुरुष चाहे कितने ही साधन जुटा ले लेकिन उंके घर में हमेशा कलह होती ही रहती है,धन का कोइ मूल्य नहीं रह जाता है और जीवन में स्त्री हमेशा नीरसता का कारण ही पैदा करती रहती है.इसी प्रकार का कारण अगर शनि के द्वारा मंगल पर दिया जाता है तो स्त्री के अन्दर एक अंदरूनी आग हमेशा अपने प्रकार से जलती रहती है और वह अपने अपने कारणों से किसी न किसी प्रकार से अपनी उत्तेजना को परिवार समाज या घर की जमीन जायदाद पर दिखाती है.पति के परिवार वाले उसे अक्सर अपनी पहुँच से दूर ही अच्छे लगते है और पति के लिए तब और अधिक भारी समय आजाता है जब दो बच्चे हो जाते है और स्त्री का एनी पुरुषो की तरफ झुकाव पैदा हो जाता है.

राहू का असर अगर शनि गुरु के साथ किसी प्रकार से मिक्स हो जाता है तो पुरुष अपनी कमजोरी के कारण अक्सर शराब या अन्य नशों के गुलाम भी होते देखे गए है साथ ही उनके घर परिवार में क्या हो रहा है उन्हें पता नहीं होता है वे अपने ही ख्याल में पड़े रहकर अपने कार्यों से भी कभी कभी दूर होते देखे गए है.सौ में से बीस लोग संसार से समय आने से पहले ही शरीर की कमजोरी के कारण कूंच कर जाते है और जो बचाते है उनके अन्दर एक प्रकार का सामाजिक दोष भी देखने को मिलता है.

23 comments:

  1. Singh Lagna ka Jatak Mesh Rashi Ka Panchmesh Guru aur Rahu Hone Se Rahu ki mahadasha accha rehta hai ki kharab rehta hai.

    Date of Birth: 26/09/1972
    Time of Birth: 03:45 AM
    Place:- Raxaul, Bihar

    ReplyDelete
    Replies
    1. मकर और कुम्भ राशि वालो के लिये राहु के समय मे गोचर का फ़ल शुभ भाव मे शुभ और अशुभ भाव मे अशुभ मिलता है.

      Delete
  2. guruji namskar .. Apka gyan adbhut hai. Aap se nivedan hai ki 5th bhav maisukra sani yuti hai to kya 4 yrs badi ladki milegi? mai jis se sadi karna chahta tha wo mujse 4 yrs badi thi. 5th sthan mai sukra sani yuti ka hone se parfect kitne yrs or maas badi kanya milti hai? plz guruji muje iss ke baare mai jarur batayiyega. mai Apka sada hi Aabhari rahuga.

    ReplyDelete
    Replies
    1. पंचम मे शनि विवाह अवरोधक के रूप मे काम करता है जीवन साथी मित्र और खुद के परिवार से दूर भी करता है,शुक्र के साथ होने से जीवन मे अपनत्व की भावना के लिये स्त्रियों के स्नेह की कल्पना की जाती है,लेकिन यह जरूरी नही है कि पत्नी पति से बडी ही हो कारण शुक्र का समय उम्र की बयालीस साल के बाद ही काम करने के लिये शुरु होता है यह उम्र ही जवानी की ढलती उम्र की प्रतीक है.

      Delete
    2. गुरुजी आपको सत सत नमस्कार...

      यह कुछ समज मै नही आया...
      यह जरूरी नही है कि पत्नी पति से बडी ही हो कारण शुक्र का समय उम्र की बयालीस साल के बाद ही काम करने के लिये शुरु होता है यह उम्र ही जवानी की ढलती उम्र की प्रतीक है. आपने बताया है की अगर शुक्र शनि दोनों पांचवे भाव में ही है तो पुरुष की पत्नी चार साल बड़ी होगी,मेरी कुंडली के पांचवे भाव में शुक्र शनि की युती है. नाम दिपक ..जन्म तारीख ः 02/10/1982 , समय ः रात को 21PM .जन्म स्थल ः bharuch gujarat india.

      Delete
  3. लगनेश शुक्र और सप्तमेश मंगल में आठ डिग्री का अन्तर है,यही अन्तर आपके लिये समझने के लिये काफ़ी है.वैसे भी सप्तमेश मंगल के बारहवे गुरु होने से जो भी रिस्ता बनेगा वह व्यवहारिक रूप से संतुष्ति प्रदान करने वाला बनेगा,और मंगल से दूसरा केतु होने से तथा अष्टम का राहु होने से गुप्त सम्बन्धो के लिये ही कम उम्र के प्रति अपनी रुचि जाहिर करेगा.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Aapka dhanyavaad gurruji. kitne saal badi patni milegi ye bataa dete to achhchhha rehta .. Aap bahut gyani hai ... or Apse vichar vimarsh karnr=e mai Atyadhik Aanand Aata hai. guru dev dutt

      Delete
    2. शुक्र और मंगल की दैनिक चाल प्रति दिन औसत एक डिग्री मानी जाती है,सौर गति से इसे जानने के लिये नौ महिना दस दिन का एक अंश सूर्य मंगल बुध शुक्र के लिये औसत रूप से जाना जाता है इसी हिसाब से गणना कर ली जाती है कि पति और पत्नी के बीच के समय का अन्तर कितना होगा.

      Delete
    3. Aapka dhanyavaad gurruji.

      Plz guruji bata dijye kitne saal badi patni milegi?

      Delete
  4. Guru ji Pranam.
    Meri Shaadi kab hogi???
    Name-Gaurav Mishra
    DOB- 22-10-1986
    TIME- 01:18 PM
    Place- Lucknow (UP)

    Kripya kar ke batayen, mahan daya hogi

    ReplyDelete
    Replies
    1. गौरव जी आपकी तीन शादी के योग मिलते है पहला उन्नीसवी साल मे दूसरा पच्चीसवी साल मे और तीसरा इकत्तीसवी साल में इनमे योगो का फ़लीभूत होना तब असम्भव होता है जब पारिवारिक स्थिति दो जगह की बात को लेकर चलने वाली हो जैसे माता कुछ कहे और पिता कुछ कहे साथ ही आपके विचार डरने वाले अपनी धारणा के अनुसार चलने वाले और नीच कुल के प्रति लगाव रखने वाले हों.वैसे एक योग आने वाली ग्यारह मई 2013 मे भी बन रहा है.

      Delete
  5. प्रणाम गुरूजी
    मैं अपने करियर और विवाह के बारे में जानना चाहता हूँ कृपया मुझे मार्गदर्शन दे। मुझे करियर में कौन सा मार्ग चुनना चाहिए। साथ ही मेरे लिए उपयुक्त और लाभकारी रत्न बताने की कृपा भी करे। आपका धन्यवाद प्रणाम।
    नाम राहुल गुप्ता
    जन्म तिथि २९ दिसम्बर १९९२
    जन्म समय १० : ०५ a.m.
    जन्म स्थान रायपुर छत्तीसगढ़

    ReplyDelete
  6. Guru Jee
    Pranam
    Mughey Pariwarik Arthik Or Manshik Paresaani hai. Main Arthik roop se kab atmanirbher houngaa.
    manis kumar
    DOB 06/07/1978
    Time 09.15Am
    Bihta Bihar

    ReplyDelete
  7. NAME –veena dusane
    DATE OF BIRTH – 14 January 1980
    BIRTH PLACE – Nashik (Maharashtra)
    BIRTH TIME- 10:45AM (Subah KE 10 BEJ KAR 45 MIN.)

    mera divorce hoga kya? Muje santan kab hogi? divorce hokar dusri shadi hogi kya?

    ReplyDelete
  8. Guru Ji,
    My Name Is Rahul Jain,
    DOB is 10 july 1987. At 2AM at night, birth place is firozabad (UP),
    i want to know my kundali, problem in my life, i also want to know my accepted age. please Guru ji...
    i am waiting here,, please let me know

    ReplyDelete
  9. Guru Jed charn chu kar padam kaya ap meri kundali dekh kr bata sakte h ki may garibo or be sahra logo ka kitna maddat kr Santa hu mujhe apne bare may nahi janna h Jo bhagwan de deta h usi may may khush hu bus plz itna bats dijiye ki may garubo ki maddat kid tarah kr Santa hu kuch ladkiya h jinki Saadi pause me karan nahi hoti or o valtiya karne late h much bacche jinhe padna likhna chaiye o chori or galat kam karte h or apradhi ban hate h yd sab day kh kar mujhe bahut dukh hora h may unko achhe rasate dikhana chat a hu par bhagwan mujhe utna majboot nahi banya isliye may ye janna chat a hu ki may unko maddat kid parkar karu plz mera naam shyam sunder hai janm 26/06/1984 time 18:57:00 Jamshedpur .at hua hair mail I'd me_shyamvery@rediffmqil.com

    ReplyDelete
  10. mera name amit

    DOB 22/4/1983

    TIME 5:07 PM
    PLACE AJARA, KOLHAPUR , MAHARASHTRA

    ReplyDelete
  11. Krpaya shaadi kab hoga prem vivah ya arranged patni aur vaivahik jeevan kaisa hoga kripaya dekhen.

    Videsh yatra kab Main ek software engineer hoon. Kundli attach kiya hai.

    Kindly check when my marriage will happen. Love/Arranged Marriage. Physical appearance, beauty, job& education , nature of wife and my marital life please. . My Jupitor is on Virgo ascendant with Saturn. Both are retrograde.

    Date of Birth: 10 February 1981 Tuesday
    Time of Birth: 21:43 (=09:43 PM), Indian Standard Time
    Place of Birth: Bhubaneswar (Orissa), India
    Latitude: 20.13N Longitude: 85.50E
    Gender : Male ; Marital Status : Single

    I am a B.Tech work as a Software Engineer in Bangalore in a reputed MNC.

    Sumit Tripathy

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  13. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  14. Sir meri d.o.b. h 18 august 1992 ,4:30 a.m.city-aligarh;uttar pradesh..meri love marriage hogi ya arrange aur mera life partner kesa hoga...

    ReplyDelete