Tuesday, November 8, 2011

दशा फ़ल

जन्तर मन्तर जयपुर सूर्य घडी.
लगनेश की दशा मे शरीर को सुख मिलता है और धन का लाभ भी होता है,धनेश की दशा मे धन लाभ तो होता है लेकिन शरीर को कष्ट होता है,यदि धनेश पर पाप ग्रह की नजर हो तो मौत तक होती देखी गयी है,तीसरे भाव के स्वामी की दशा मे रोग भी होते है चिन्ता भी होती है आमदनी का प्रभाव भी साधारण ही रहता है,चौथे भाव के स्वामी की दशा मे स्वामी के अनुसार ही मकान का निर्माण भी होता है सवारी का सुख भी प्राप्त होता है,लाभ के मालिक और दसवे भाव के मालिक दोनो ही अगर द्सवे या चौथे भाव मे हो तो चौथे भाव के स्वामी की दशा मे फ़ैक्टरी या बडे कारोबार की तरफ़ इशारा करते है,विद्या लाभ के लिये भी इसी दशा को देखा जाता है.पंचम भाव के स्वामी की दशा में विद्या की प्राप्ति भी होती है धन का जल्दी से धन कमाने के साधनो से धन भी प्राप्त होता है दिमाग अधिकतर लाटी सट्टे और शेयर बाजार जैसे कार्यों से धन की प्राप्ति होती है अधिकतर जुआरी इसी दशा मे अपने को पनपा लेते है.प्रेम इश्क मुहब्बत का कारण भी इसी दशा मे देखा जाता है,अगर साठ साल की उम्र मे भी इस भाव के स्वामी की दशा शुरु हो जाये तो व्यक्ति सठियाने वाली कहावत को चरितार्थ करने लगता है.सम्मान भी मिलता है समाज मे यश भी मिलता है,लेकिन बचपन मे दशा शुरु हो जाये तो माता और मकान तथा वाहन के प्रति दिक्कत भी शुरु हो जाती है.छठे भाव के स्वामी की दशा मे दुश्मनी पैदा होने लगती है बीमारी घेरने लगती है कर्जा भी बढने लगता है.सबसे अधिक सन्तान के लिये दिक्कत का समय माना जाता है और वह उन सन्तान के लिये माना जाता है जब वह शिक्षा के क्षेत्र मे होती है उनके लिये यह भी माना जाता है कि धन का कारण उन्हे पता लगने लगता है और उस कारण से वह चोरी करना ठगी करना और परिवार को बदनाम करने वाले काम भी करने से नही चूकती है,सप्तमेश की दशा मे अगर शादी हो चुकी है तो जीवन साथी को कष्ट बेकार के कारणो से होना शुरु हो जाता है शादी नही हुयी है तो कई प्रकार के रिस्ते बनते और बिगडने की बात भी मानी जाती है.अष्टमेश की दशा मे अगर वह पाप ग्रह है तो मौत या मौत जैसे कष्ट मिलने की बात मानी जाती है अगर अष्टमेश पाप ग्रह के रूप मे है और दूसरे भाव मे विराजमान है तो निश्चय ही मौत का होना माना जा सकता है गुरु के द्वारा देखे जाने पर कोई न कोई सहायता मिल जाती है,लेकिन गुरु के वक्री होने पर मिलने वाले उपाय भी बेकार हो जाते है.नवमेश की दशा मे सुख मिलना जरूरी होता है,भाग्योदय का समय भी माना जाता है,धार्मिक कार्यों मे मन का लगना और अचानक धार्मिक होना भी इसी दशा के प्रभाव से माना जाता है.दसवे भाव के मालिक की दशा मे राज्य से सहायता मिलने लगती है पिता से सहायता के लिये भी और पुत्र से सहायता के लिये भी माना जाता है सुख का समय शुरु होना भी माना जाता है सम्मान प्राप्ति देश विदेश मे नाम होने की बात भी देखी जाती है लाभेश की दशा मे धन का आना तो होता है लेकिन पिता और पिता सम्बन्धी कारको का नष्ट होना भी माना जाता है बारहवे भाव के मालिक की दशा मे शरीर को कष्ट भी होता है धन की हानि भी होती है और भटकाव भी देखा जाता है सबसे अधिक कारण मानसिक चिन्ताओं के लिये भी माना जाता है,राहु की दशा मे अजीब गरीब कार्य का होना,अचानक धनी और अचानक निर्धन बन जाना पूर्वजो के नाम को या तो चमका देना या उनके नाम का सत्यानाश कर देना भी माना जाता है केतु की दशा मे दलाली जैसे काम करना कुत्ते जैसा भटकाव या ननिहाल खान्दान से अपने जीवन यापन को करना अथवा भटकाव चुगली खबर बनाने का काम आदेश से काम करने के बाद रोजी की प्राप्ति दूसरे के इशारे पर काम करना आदि माना जाता है.

1 comment:

  1. shukra ki dasha 20 saal ki hai. agar shukra vakri ho to kya malavya yog ka kya phal hoga.

    ReplyDelete